कवरेज इंडिया

खबर पल-पल की

आदेश था कि एक कोरोना मरीज मिलने पर 20 मकानों का इलाका होगा सील, पर यहां तो मरीज के घर भी नहीं कर रहे बैरिकेटिंग

1 min read

कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क प्रयागराज

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर योगी सरकार ने नए नियमों के साथ सख्ती बढ़ा दी है। नए नियम के अनुसार शहरी इलाकों में कोरोना मरीज मिलने पर इलाक़ा कंटेनमेंट ज़ोन घोषित होगा। एक मरीज मिलने पर 20 मकानों का इलाका सील होगा। एक से अधिक केस मिलने पर 60 मकानों का इलाका सील कर दिया जाएगा। इलाके में सर्विलांस टीम सर्वे और जांच करेंगी। लेकिन आपको बता दें कि प्रयागराज में योगी सरकार के ही अधिकारी उनके आदेशों की अवहेलना करते नजर आ रहे हैं।

 

वर्तमान में प्रयागराज में कोरोना संक्रमण किस तरीके से अपने पांव पसार रहा है या बात किसी से छिपी नहीं है, बावजूद इसके शासन प्रशासन का रवैया लचर है। एक कोविड-19 पेसेंट मिलने पर 20 या 40 घर तो बहुत दूर की बात है बहुत सारे ऐसे जगह है जहां पर मरीज का घर भी सील नहीं किया गया है। ताजा मामला हवेलिया के संगम विहार कालोनी का है जहाँ एक परिवार में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है, सूचना पर पहुंची स्वास्थ्य टीम ने सिर्फ दरवाजे को सेनेटाइज कर इति श्री कर लिया। यह सिर्फ एक घर या मोहल्ले की कहानी नहीं है बल्कि प्रत्येक घर होम आइसोलेट हुए व्यक्ति के यहां स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम सिर्फ खानापूर्ति कर रहा है।

 

कोविड पेशेंट मिलने की सूचना पर पहुंच कर सिर्फ दरवाजे को सैनिटाइज कर दिया जा रहा है, उसके बाद मरीज को बाहर में निकालने की चेतावनी देकर तीन लौट जाती है। अब इसके बाद पूरा मोहल्ला इस भय से आतंकित रहता है कि कोरोना उन्हें उनके परिवार वालों को भी ना पकड़ ले। दर्शन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही लगभग लगभग प्रयागराज के सभी मोहल्लों में लगातार जारी है। प्रत्येक मोहल्ले में ऐसे मरीज हैं जिनके यहां अधिकारी बगैर अगल बगल सील किए ही चले गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *