कवरेज इंडिया

खबर पल-पल की

सपा नेता ने ही रची थी दंगे की साजिश, ‘फर्जी’ कहानी गढ़ पीड़ित बुजुर्ग संग किया था फेसबुक लाइव, मुकदमा दर्ज

1 min read

कवरेज इण्डिया न्यूज़ डेस्क

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद वीडियो विवाद को लेकर पुलिस का एक्शन लगातार जारी है. गाजियाबाद पुलिस ने अब समाजवादी पार्टी के नेता उम्मेद पहलवान के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. आरोप है कि उन्होंने पीड़ित अब्दुल समद से झूठा बयान दिलवाया जिससे हिंदू मुस्लिम के बीच दंगे जैसे हालात पैदा हुए। साथ ही जय श्री राम-वंदे मातरम की फर्जी कहानी गढ़ फेसबुक लाइव किया.

 

पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज करने के बाद समाजवादी पार्टी के नेता फरार हो गए हैं और पुलिस को उनकी तलाश है. इस बीच उम्मेद पहलवान की समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के साथ तस्वीर भी सामने आई है.

 

पीड़ित बुजुर्ग के साथ किया था फेसबुक लाइव 

लोनी बॉर्डर पुलिस ने इस मामले में अब सपा के लोकल नेता उम्मेद पहलवान के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर लिया है. ये वही उम्मेद पहलवान है जिसने 7 जून यानी जिस दिन एफआईआर दर्ज हुई उसी दिन पीड़ित बुजुर्ग को अपने बगल में बिठाकर उसके साथ फेसबुक लाइव किया था.

 

साथ ही, इसी लोकल नेता के कहने पर इंतजार ने आरोपी प्रवेश गुर्जर के खिलाफ जबरन उगाही की एफआईआर दर्ज करवाई थी. इंतजार की तलाश पुलिस वीडियो को वायरल करने के आरोप में भी कर रही है.

 

गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर पर दर्ज की है FIR

गौरतलब है कि इस मामले में गाजियाबाद पुलिस ने एक और FIR दर्ज की है. जिमसें ट्विटर इंडिया समेत 9 लोगों को आरोपी बनाया गया है. ये वो लोग हैं जिन्होंने वीडियो की सत्यता जाने बिना ही वीडियो को ट्वीट कर दिया और एक साम्प्रदायिक रंग देने की कोशिश की.

 

अब्दुल समद ने सबसे पहले पुलिस स्टेशन में अपने हाथ से लिखकर जो शिकायत की कॉपी दी उसमें साफ तौर पर लिखा है कि अब्दुल समद को एक ऑटो में किडनैप किया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *