September 26, 2021

कवरेज इंडिया

खबर पल-पल की

प्रयागराज में मरीजों के बेहतर उपचार हेतु 9 आक्सीजन प्लांट किये जा रहे है स्थापित

1 min read

कवरेज इंडिया न्यूज डेस्क प्रयागराज

कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर को देखते हुए जनपद प्रयागराज में मरीजों के बेहतर उपचार हेतु 09 आक्सीजन प्लांट स्थापित किये जा रहे हैं। इन 09 आक्सीजन प्लांटो में से 02 आक्सीजन प्लांट संचालित हो चुके हैं तथा तीसरा आक्सीजन प्लान्ट भी लगभग संचालित होने की स्थिति में है, इसके अतिरिक्त 03 अन्य आक्सीजन प्लान्ट प्राप्त हो चुके है, जो स्थापना के विभिन्न चरणों में हैं और तीन प्लान्टों के लिए प्लेट फार्म और शेड निर्माण कार्य चल रहा है।

मोतीलाल नेहरु मेडिकल कालेज के अन्तर्गत संचालित स्वरुपरानी नेहरु चिकित्सालय जनपद तथा मण्डल स्तर का मुख्य चिकित्सालय है, जिसमें 1400 बेड कोविड मरीजों को उपलब्ध कराने की क्षमता है। यहां कुल तीन आक्सीजन प्लान्ट प्रस्तावित हैं। इन 03 प्लान्टों में से 1400 एल0पी0एम0 क्षमता का एक प्लान्ट जो पी0एम0केयर फण्ड से स्थापित हो रहा है, पिछले हफ्ते पूरी तरह संचालित हो चुका है। यहां पर 1000 एल0पी0एम0 क्षमता के दूसरे प्लान्ट के लिए प्लेटफार्म और शेड निर्माण का कार्य पूर्ण हो चुका है और विद्युत कार्य जारी है। यह प्लान्ट अगले माह संचालित हो जायेगा। इस अस्पताल में 1000 एल0पी0एम0 क्षमता का तीसरा प्लान्ट पी0एम0 केयर फण्ड से स्वीकृृत है, जिसके लिए शेड व प्लेटफार्म निर्माण का कार्य प्रारम्भ हो चुका है। अगले माह तक यह प्लान्ट भी संचालित हो जायेगा। स्वरुप रानी नेहरु चिकित्सालय के इन प्लान्टों के स्थापना के फलस्वरुप यह अस्पताल अपनी आक्सीजन आवश्यकता के लिए लगभग आत्मनिर्भर हो जायेगा और बाहर से आक्सीजन मंगाने की आवश्यकता नहीं रहेगी।
तेज बहादुर सप्रू चिकित्सालय (बेली हास्पिटल) में कुल 209 कोविड-19 बेड उपलब्ध हैं। इस चिकित्सालय में 02 आक्सीजन प्लान्ट क्रमशः 1200 एल0पी0एम0 और 1000 एल0पी0एम0 क्षमता के स्थापित किये जाने हैं। इनमें से 1200 एल0पी0एम0 क्षमता का आक्सीजन प्लान्ट राज्य सरकार के बजट से स्थापित हो रहा है। यह प्लान्ट हास्पिटल में प्राप्त होकर स्थापित हो चुका है। इसमें थोड़ा सा विद्युत कार्य शेष है जो इसी सप्ताह पूर्ण हो जायेगा और सप्ताह के अन्त तक प्लान्ट संचालित हो जायेगा। इस चिकित्सालय के 1000 एल0पी0एम0 क्षमता के दूसरे प्लान्ट के लिए प्लेटफार्म व शेड के निर्माण का कार्य प्रारम्भ हो चुका है। अगले माह तक यह प्लान्ट भी क्रियाशील हो जायेगा। इन दोनो प्लान्टांे के क्रियाशील हो जाने पर तेज बहादुर सप्रू चिकित्सालय भी अपनी आक्सीजन आवश्यकताओं के लिए आत्मनिर्भर हो जायेगा।
शहर के मध्य स्थित जिला महिला चिकित्सालय (डफरिन), जहां पर 224 बेड उपलब्ध हंै, यहां भी 1000 एल0पी0एम0 क्षमता का आक्सीजन प्लान्ट पी0एम0 केयर फण्ड से स्थापित हो रहा है। इस प्लान्ट के लिए प्लेटफार्म और शेड का कार्य पूर्ण हो चुका है। शीघ्र ही प्लान्ट प्राप्त हो जायेगा। इसके भी अगले माह तक संचालित हो जाने की पूरी-पूरी संभावना है। इस प्लान्ट के स्थापित हो जाने से जनपद में कोविड-19 मरीजो हेतु 224 अतिरिक्त बेड की उपलब्धता हो जायेगी।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, फूलपुर में 300 एल0पी0एम0 क्षमता का एक आक्सीजन प्लान्ट क्रियाशील हो गया है। इस आक्सीजन प्लान्ट के क्रियाशील हो जाने से जनपद के कोविड-19 मरीजो हेतु 60 अतिरिक्त बेडो की अतिरिक्त सुविधा उपलब्ध हो जायेगी।
टी0बी0 हास्पिटल, तेलियरगंज में भी 425 एल0पी0एम0 क्षमता का आक्सीजन प्लान्ट स्थापित हो रहा है। यह प्लान्ट अस्पताल में प्राप्त हो चुका है और प्लेटफार्म पर स्थापित हो चुका है। आक्सीजन पाइपलाइन का कार्य पूर्ण हो जाने पर टी0बी0 हास्पिटल, तेलियरगंज में 170 अतिरिक्त आक्सीजन बेड कोविड-19 मरीजो हेतु उपलब्ध हो जायेंगे।
100 बेड की क्षमता का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, भगवतपुर निर्माणाधीन है। इस स्वास्थ्य केन्द्र में 300 एल0पी0एम0 क्षमता का आक्सीजन प्लान्ट प्राप्त हो चुका है। अस्पताल का निर्माण कार्य पूर्ण होने के साथ ही 100 अक्सीजन बेड कोविड-19 मरीजों के लिए उपलब्ध हो जायेंगे।
उपरोक्त आक्सीजन प्लान्टों की स्थापना के पश्चात्् जनपद केे प्रमुख अस्पताल अपनी आक्सीजन आवश्यकताओं के लिए लगभग आत्मनिर्भर हो जायेंगे तथा कोविड-19 मरीजों हेतु आवश्यकता पड़ने पर अतिरिक्त आक्सीजन बेड उपलब्ध हो सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *