Wed. Aug 5th, 2020

कवरेज इंडिया

खबर पल-पल की

मां, मैं भागा नहीं था मुझे रिश्तेदार ने बेच दिया था

1 min read

 

स्वरमिल चंद्रा। कवरेज इण्डिया आजमगढ़। 

आजमगढ़। आजमगढ़ जिले के 12 साल के बच्चे को उसके एक रिश्तेदार ने काम दिलाने के नाम पर चंडीगढ़ में ₹80000 में बेच दिया था। लॉकडाउन में ट्रक चालकों ने एक दूसरे की मदद से उसे घर पहुंच जाएगा। 18 साल के वनवास के दौरान एक हादसे में युवक का एक हाथ भी कट गया है, लेकर यार अब उस रिश्तेदार के खिलाफ कार्रवाई करने की सलाह ले रहा है। मां… मैं भागा नहीं था, काम दिलाने के नाम पर मुझे रिश्तेदार ने एक होटल में बेच दिया था। 18 साल बाद घर पहुंचे युवक से इतना सुनते ही उसकी मां फूट-फूट कर रो पड़ी। दर्दनाक कहानी कोई फिल्मी कहानी नहीं बल्कि आजमगढ़ के हाजीपुर के युवक की दास्तां है। घर पहुंचे युवक ने बताया कि 3 साल तक बिना वेतन काम करने के बाद उसे तब सच्चाई की जानकारी हुई जब होटल बंद हुआ। होटल मालिक ने बताया कि उसके रिश्तेदार ने उसे ₹80000 में बेच दिया है। ना उसके पास पैसे थे और ना ही कुछ खास याद था। उसके जेहन में सिर्फ गांव का नाम हाजीपुर और ननिहाल कॉल घाट है। इसी नाम के सहारे ट्रक चालकों ने दो दिन पहले उसे घर पहुंचाया। शनिवार को युवक अपने भाई को साथ लेकर इंटर कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ रविंद्र नाथ राय के पास गया और अपनी रामकहानी बताई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *