13.1 C
Delhi
Wednesday, January 26, 2022

वैक्सीन के बाद खतरनाक है पैरासिटामोल का दवा का सेवन, डॉक्टरों ने दी यह गंभीर चेतावनी

spot_img
- Advertisement -
spot_img
spot_img

कवरेज इंडिया न्यूज़ डेस्क

दिल्ली: Bharat Biotech Covaxin: हैदराबाद स्थित निर्माता भारत बायोटेक (Bharat Biotech) जिसका वैक्सीन कोवैक्सिन (Covaxin) किशोरों को दिया जा रहा है, ने बुधवार को कहा कि कोवैक्सिन का टीका लगने के बाद किसी भी पैरासिटामोल (paracetamol) या दर्द निवारक लेने की सलाह नहीं दी जाती है. किसी भी टीके की तरह कोविड-19 टीके का साइड इफेक्ट हो सकता है जिनमें से अधिकांश हल्के या मध्यम होते हैं और कुछ दिनों के बाद सामान्य हो जाते हैं.

जबकि कई लोग दर्द निवारक या पैरासिटामोल का उपयोग करने को लेकर आकर्षित होते हैं. विशेषज्ञ इनके नियमित उपयोग के खिलाफ हैं और इसे बिना डॉक्टरी सलाह के नहीं लेने के लिए कहते हैं. भारत बायोटेक ने एक ट्वीट में कहा, हमें फीडबैक मिला है कि कुछ टीकाकरण केंद्र बच्चों के लिए कोवैक्सिन के साथ तीन पैरासिटामोल 500 मिलीग्राम टैबलेट लेने की सिफारिश कर रहे हैं. Covaxin का टीका लगने के बाद किसी भी पैरासिटामोल या दर्द निवारक की सिफारिश नहीं की जाती है. भारत बायोटेक ने कहा कि 30,000 व्यक्तियों पर इसके क्लीनिकल ट्रायल्स के माध्यम से लगभग 10-20% ने साइड इफेक्ट की जानकारी दी है. अधिकांश हल्के थे और एक या दो दिनों के भीतर हल हो गए थे और जबकि उन्हें दवा की आवश्यकता नहीं थी. भारत बायोटक के अनुसार, केवल एक चिकित्सक के परामर्श से दवा की सिफारिश की जाती है.

डॉक्टर के सलाह पर ही लें दवा

कंपनी के प्रवक्ता ने नवंबर 2021 में द लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन के हवाले से कहा कि कोवैक्सिन को अच्छी तरह से सहन किया गया है. जब तक वैक्सीन ले चुके लोगों के लिए डॉक्टरों द्वारा विशेष रूप से नहीं कहा जाता, तब तक पैरासिटामोल की आवश्यकता नहीं होती है. प्रवक्ता ने कहा कि वयस्कों में अध्ययन और बच्चों (2-18 वर्ष) में परीक्षणों से उपलब्ध आंकड़ों के आधार पर मापी गई विपरीत घटनाएं अन्य निष्क्रिय टीकों के समान थीं और अन्य प्लेटफार्मों का उपयोग करने वाले टीकों की तुलना में बहुत कम थीं. यदि थोड़ी सूजन हो तो कोई बेहतर एंटीबॉडी प्रतिक्रिया कर सकता है. प्रमुख प्रतिरक्षाविज्ञानी डॉ गगनदीप कांग ने कहा, यदि कोई टीकाकरण के तुरंत बाद एक एंटी इंफ्लेमेटरी दवा देता है, तो एंटीबॉडी की प्रतिक्रिया कम हो सकती है. ऐसे अध्ययन हैं जिन्होंने टीकाकरण के तुरंत बाद पैरासिटामोल या कोई अन्य एंटी इंफ्लेमेटरी दवा देने के लिए प्रिसक्राइब्ड किया है, इम्यून रिस्पॉन्स को थोड़ा कम कर देगा.

पैरासिटामोल लेने से बचने की सलाह

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के राष्ट्रीय टास्क फोर्स कोविड-19 के सदस्य डॉ. संजय पुजारी ने कहा कि टीकों के दुष्प्रभाव बहुत बार नहीं होते हैं और ज्यादातर हल्के होते हैं. 1-2 दिनों के भीतर सभी सामान्य हो जाते हैं. उन्होंने कहा कि यह ज्ञात नहीं है कि पैरासिटामोल और अन्य एंटी-इंफ्लेमेटरी जैसी दवाएं वैक्सीन के काम करने के तरीके को कैसे प्रभावित कर सकती हैं. इसलिए टीके लेने से पहले या बाद में इन दवाओं का नियमित उपयोग उचित नहीं है.

साइड इफेक्ट क्यों

टीके से होने वाले दुष्प्रभाव एक सामान्य संकेत हैं कि शरीर पूरी तरह सुरक्षित है. ये किसी की दैनिक गतिविधियों को करने की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं लेकिन ज्यादातर कुछ दिनों में दूर हो जाते हैं. यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के 16 दिसंबर, 2021 के अपडेट के अनुसार, कुछ लोगों का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है और एलर्जी रिएक्शन मुश्किल होती है. आम दुष्प्रभाव दर्द, लालिमा, सूजन, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, बुखार और मतली हैं. सीडीसी का कहना है कि टीकाकरण के बाद अनुभव होने वाले किसी भी दर्द और परेशानी के लिए इबुप्रोफेन, एसिटामिनोफेन, एस्पिरिन (केवल 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए) या एंटीहिस्टामाइन जैसी ओवर-द-काउंटर दवा लेने के लिए किसी को डॉक्टर से बात करने की आवश्यकता होती है. साइड इफेक्ट से बचने की उम्मीद में टीकाकरण से पहले दवाएं लेने की सिफारिश नहीं की जाती है. सीडीसी के अनुसार, यह ज्ञात नहीं है कि ये दवाएं वैक्सीन के काम करने के तरीके को कैसे प्रभावित कर सकती हैं. हालांकि, यदि दवाएं नियमित रूप से अन्य कारणों से ली जाती हैं तो उन्हें टीकाकरण से पहले लिया जाना चाहिए.

- Advertisement -spot_img
Latest news
- Advertisement -

खबरे जरा हटके

राजनीति

Related news

मनोरंजन

भारत