February 27, 2021

कवरेज इंडिया

खबर पल-पल की

जौनपुर की माटी के लाल ने किया ऐसा सूर्य नमस्कार कि दुनियाँ हो गई हैरान, ‘नुमा इंडिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में आया नाम

1 min read

 

जौनपुर । कवरेज इण्डिया

सरपतहां थाना क्षेत्र के असैथा पट्टी के रहने वाले उत्तम अग्रहरि ने सूर्य नमस्कार करके नुमा इंडिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपने नाम एक और कृतिमान दर्ज कर लिया है । यह नुमा इंडिया योग कमेटी दामन – दीप के द्वारा ऑनलाइन के माध्यम से आयोजित किया गया जिसमें भारत के अलग – अलग राज्य के 114 योग साधक प्रतिभाग किये ।

उत्तम अग्रहरि को रामबाग कल्याण में स्थिति बाबूलाल डेरी और मिथिलेश मावा जलेबी शॉप ने प्रमोट करके यह विश्व कीर्तन अर्जित कराया ।

उत्तम अग्रहरि इसे पहले गोल्डेन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करा चुके हैं जो विश्व योग दिवस 21 जून 2020 को ऑनलाइन आयोजित किया गया और उस में उत्तम अग्रहरि ने उल्लासनगर में रहकर ताडासन में 2 घंटे 2 मिनट का विश्व रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराया । इससे पहले लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी उत्तम अग्रहरि का नाम 108 सूर्य नमस्कार में दर्ज है ।

उत्तर प्रदेश योग फेडेरेशन ने द्वितीय पूर्वी जोन योगासन खेल प्रतियोगिता 21 से 24 अक्टूबर 2020 को आयोजित किया जिसमें उत्तम ने जौनपुर का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रथम पुरस्कार गोल्ड मेडल जीता । वहीं

राज्य स्तर उत्तर प्रदेश योगासन प्रतियोगिता 21 से 29 दिसम्बर 2020 को आयोजित किया गया जिसमें उत्तम को पूरे उत्तर प्रदेश में सातवां स्थान प्राप्त हुआ।

देवभूमि योग सोसायटी उत्तराखंड द्वारा आयोजित युवा- भारत जिला देहरादून जिला स्तरीय योगासन प्रतियोगिता 12 -02-2020 में एकल प्रतियोगिता में उत्तम को द्वितीय स्थान और समूह मे प्रथम स्थान प्राप्त हुआ

देवभूमि योग सोसायटी एंव युवा भारत राज्य उत्तराखंड द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित राज्य स्तरीय योगासन प्रतियोगिता 18/02/2020 में उत्तम ने एकल मे पांचवां स्थान और समूह मे द्वितीय स्थान प्राप्त किया

अभी उत्तम अग्रहरि को चेन्नई की संस्था पतंजलि कालेज द्वारा युवा भारती पुरस्कार से समानित किया ।

उत्तम अग्रहरि के द्वारा भारत के हर राज्य में योग का ज्ञान दिया जा रहा है अपितु विदेशों में भी योग का प्रसार के लिए दिन रात श्रम किया जा रहा है ।

उल्लासनगर के सेंचुरी क्लब में योग का प्रशिक्षण उत्तम अग्रहरि के द्वारा समय समय दिया जाता हैं ।

एक गरीब परिवार में जन्में उत्तम अग्रहरि बचपन में ही पिता स्व : मिथिलेश अग्रहरि पीलिया रोग से पीडि़त होने के कारण 2003 में मृत्यु हो गयी उन के मृत्यु के समय उत्तम अग्रहरि की आयु मात्रा 5 साल थी

2004 में बहन की मृत्यु बिच्छू के कटाने की वजह और बडी बहन की मृत्यु 2010 मे कालरा से हो गयी

घर मे पिता के अलावा और कोई कामने वाला न था इन मे दादा स्वःबाबूलाल अग्रहरि दादी श्री मती शारदा देवी ने इन बच्चों को आगे की शिक्षा दिक्षा को देखा इन का जीवन ही संघर्ष से परिपूर्ण रहा परन्तु इन्होंने अपने परिस्थितियों को अपने ऊपर हबी नहीं होने दिया परिस्थितियों से कुछ नया सीखा ।

जो बचपन से किक्रेट बनाने के भाव लेकर जीता था अब वह योगी हो गया परिस्थिति किस को कहा लाकर स्थिति कर दे नहीं पता।

उत्तम अग्रहरि ने बताया कि अभी ऐसे 50 विश्व रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराये गये जिसमें प्रमुख्य है 1 मिनट में 100 मीटर हाथ के बल चलकर नया रिकॉर्ड बनाया जाये ।

 

उत्तम अग्रहरि , राष्ट्रीय योग खिलाड़ी , योग शिक्षक, गोल्डेन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर,नुमा इंडिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड, लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर , नोबेल विश्व रिकॉर्ड होल्डर , सामाजिक कार्यकर्ता भी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *